सैयद अब्दुल्ला मियां चिश्ती ने दस साल की उम्र में किया पूरा क़ुरान हिफ़्ज़

0
1807

औरैया / फफूंद:- हिंदुस्तान की प्रसिद्ध ख़ानक़ाह आस्ताना आलिया समदिया पर शुक्रवार की बीती रात को ख़ानक़ाह के सज्जादा नशीन की सरपरस्ती में शब-मेराज पर महफ़िल-ए-मीलाद का एहतिमाम किया गया जिसमें जिसमें ख़ानक़ाह के शहजादे हाफ़िज़/क़ारी सैयद मन्ज़र मियां चिश्ती के साहबज़ादे सैयद अब्दुल्ला मियां चिश्ती की दस्तार हुई जिन्होंने महज़ दस साल की उम्र में बहुत मेहनत और लगन के साथ पूरा क़ुरान हिफ़्ज़ कर ये मक़ाम हासिल किया। महफ़िल में ख़ानक़ाह के अलावा नगर के लोगों ने पहुंचकर उन्हें मुबारकबाद पेश की।

महफ़िल-ए-मीलाद में ख़ुसूसी ख़िताब में मुफ़्ती अनफासुल हसन चिश्ती शब-ए- मेराज और उससे मिलने वाले अहम बातों को बहुत ही सरल अंदाज़ में लोगों तक पहुंचाया।महफ़िल-ए-मिलाद के बाद शायर-ए-आस्ताना सैयद मन्ज़र मियां चिश्ती के साहबज़ादे हाफ़िज़ सैयद अब्दुल्ला मियां चिश्ती मौदूदी ने हिफ़्ज़ क़ुरान शरीफ का आख़िरी सबक़ सुनाकर इस मुबारक रात शब-ए-मेराज में हिफ़्ज़ क़ुरान करीम मुकम्मल किया उन्होंने ये मक़ाम महज़ दस साल और चार माह में हासिल किया उनकी इस कामयाबी पर ख़ानक़ाह के सज्जादा नशीन सैयद अख़्तर मियां चिश्ती,सै० अनवर मियां चिश्ती, सै० अतहर मियां चिश्ती,सै०अज़हर मियां चिश्ती, सै०मज़हर मियां चिश्ती, मौलाना सै०गुलाम अब्दुस्समद मियां चिश्ती, सै० मुज़फ्फर चिश्ती, सै० नवाज़ अख़्तर चिश्ती,सहित नगर के लोगों ने मुबारकबाद दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here